Difference Between IAS and IPS in Hindi IAS और IPS में क्या अंतर है ?

Difference Between IAS and IPS : IAS and IPS इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में क्या अंतर होता है और उनकी सैलरी क्या होती है एवं कौन किस पर भारी होता है

IAS and IPS इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) बहुत ही प्रतिष्ठित नौकरी है। आईएएस या आईपीएस (IAS or IPS) दोनों ही सेवाओं में भर्ती होने के लिए अभ्यर्थी (Applicant) को काफी मेहनत करना पड़ता है ।

यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में सफलता​​ (Success) पाने के लिए अभ्यर्थी दिन रात एक कर देते हैं । तब जाकर कहीं उन्हें सफलता प्राप्त होती है । लेकिन इन दोनों ही सर्विस में कार्य अलग-अलग हैं।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में किस तरह सवाल किए जाते हैं?

महत्वपूर्ण बिन्दू

आप IAS ही क्यों बनना चाहते ?

सर क्योंकि मैं समाज सेवा करना चाहता हूं और समाज सेवा करने के दो रास्ते है। एक पावर के साथ और दूसरा बिना पावर के साथ।

अगर हम समाज सेवा पावर के साथ करेंगे तो लोग हमारी बात मानेंगे। जिससे मैं उनकी सेवा या सहायता कर सकता हूं। अगर मैं समाज सेवा बिना पावर के साथ करूंगा तो लोग हमारी बात नहीं मानेंगे और उन्हें बार-बार मनाना पड़ेगा।

इसीलिए मैंने तय किया की समाज सेवा पावर के साथ करूंगा और मेरे पास पूरा समय भी है, तो मैंने सोचा क्यों न समाज सेवा पावर के साथ करु जिससे लोग हमारी बात मानेंगे और मैं उनकी सेवा कर सकता हूं।

आपने आईएसए ही क्यों चुना दूसरा भी तो ऑप्शन था ?

सर क्योंकि मैं सिविल सेवा में आना चाहता हूं क्योंकि सिविल सेवा में कुल मिलाकर एक ऐसा कंबीनेशन हमें उपलब्ध कराते हैं जो किसी अन्य सेवाओ में नहीं है।

आईएसए बनने में कंबीनेशन क्या है ?

डायवर्सिटी आप किसी भी नौकरी में जाते हैं तो आमतौर पर आपको जिंदगी भर एक ही काम करनी पङती है  और उस काम को करने के लिए कोई भी व्यक्ति पहले बहुत उत्साहीत होता है लेकिन बाद में उसे वह काम बोरिंग लगने लगता है।

वह थक जाता है उसके पास एक रास्ता, एक ही जगह और एक ही बोरिया विस्तार होता है। फिर काम करने क़े मन नही लगता हैऔर मन मे यह विचार आता है कि नौकरी छोड़  दु।

पर यदि हम आईएएस में है तो कभी कलेक्टर के रूप में कार्य कर सकते हैं या फिर उसमें भी मन नहीं लगा तो शिक्षा विभाग में कार्य कर सकते हैं।

और बाद में मन नहीं लगा तो स्वास्थ्य विभाग में जा सकते हैं या फिर डायरेक्टर का पद भी जॉइनिंग कर सकते हैं। बस आप आईएस में है तो आपको दुनिया भर के काम है और इसमें बोर होने का फुर्सत ही नहीं है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में क्या अंतर होता है और उनकी सैलरी क्या होती है एवं कौन किस पर भारी होता है ?

हर देश और हर राज्य को  सही तरीके से चलाने के लिए एक बड़े अधिकारी की नियुक्ति की जाती है। जिसके तहत पूरा जिला उसके नीचे काम करता है। उसका नाम  जिला अधिकारी होता है। उसके साथ ही साथ एक और अधिकारी उसके समांतर कार्य करता है जो अपराध को नियंत्रक करता है।

जो उस जिलाधिकारी के समच्छ होता है जिसे पुलिस अधीक्षक कहते हैं। जो पुलिस विभाग का सबसे बडा अधिकारी होता है। संग लोक सेवा आयोग यानी UPSC की परीक्षा हमारे पूरे भारत में सबसे मुश्किल परीक्षाओं मे से एक मानी जाती है।

और हर साल लाखों लाख उम्मीदवार परीक्षा में बैठते हैं और सपना देखते हैं की IAS या IPS पद हासिल करेंगे। आईएस यानी इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस जिसके जरिए आप UPSC में एंट्री करते हैं और चुनें जाने के बाद उम्मीदवार विभिन्न मंत्रालय या जिले की मुखिया बनाए जाते हैं।

भारतीय लोक प्रशासन में सबसे बड़ा पद कैबिनेट सिक्योरिटी का होता है। वही IPS इंडियन पुलिस सर्विस के जरिए कोई भी आदमी पुलिस आलम अफसरों में शिवाद होता है।

UPSC की परीक्षा 3 माध्यम से आयोजित किया जाता है।
जिसमें पहला पीरिलिम्स  दूसरा  मेन्स और तीसरा इंटरव्यू इसके बाद चुने गए उम्मीदवार को देश के कोने-कोने में भेजा जाता हैं।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में क्या अंतर होता है ?

IAS इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service)  का कोई ड्रेस नहीं होता है वह हमेशा फॉर्मल ड्रेस में रहता है लेकिन IPS को हमेशा डिप्टी के दौरान वर्दी पहनता है। वही एक IAS के साथ एक या दो बॉडी गार्ड रहते हैं जब की एक IPS इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) के साथ पूरा  पुलिस की फौज रहती है।

जब आईएस बनते हैं तो एक मेडल दिया जाता है। उसके विपरीत जब IPS बनते है तो उसको कोसवार्ड आफ आनर दिया जाता है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) के क्या कार्य होते है ?

एक IAS लोक प्रशासन और नीति निर्माण और कल्याण के लिए जिम्मेदार होता है। यानी सरकार जो नीतियां बनाती है उन्हें लागू करवाने का काम एक IAS का होता है। वही IPS अधिकारी कानून व्यवस्था बनाए रखने और क्षेत्र में अपराध रोकने की जिम्मेदार लेता है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) की ट्रेनिंग कैसे होती है ?

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) को शुरू के तीन महीने की ट्रेनिंग लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी मंसूरी में होती है। इसे फाउंडेशन कोर्स भी कहते हैं। उसके बाद IPS को सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी हैदराबाद भेज दिया जाता है।

जहां उनको पुलिस की ट्रेनिंग दी जाती है और जैसा कि हम पहले बता चुके हैं जो उम्मीदवार IAS की ट्रेनिंग में टॉप करता है उन्हें मैडल और जो IPS की ट्रेनिंग में टॉप करते है उन उम्मीदवार कोसवार्ड आफ आनर दीया जाता है। वैसे तुलनात्मक दृष्टि से देखे तो IPS की ट्रेनिंग ज्यादा मुश्किल होती है। जिसमें घुड़सवारी परेड और हथियार चलाना शामिल होता है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) किसके नियंत्रण में कार्य करते हैं ?

IAS के नियंत्रण करता कार्मिक लोक शिकायत और पेंसन मंत्रालय कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग होता है। जबकि IPS का नियंत्रण करता गृह मंत्रालय होता है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) की सैलरी कितनी होती है ?

एक IAS अधिकारी को सरकारी विभाग और कई मंत्रालय का कार्य दिया जा सकता है। वही IPS अधिकारी को पुलिस विभाग में काम करना होता है। अगर सैलरी की बात करें तो IAS की सैलरी IPS अधिकारी से ज्यादा होता है। एक IAS की सैलरी दो लाख पच्चास हजार  (2.50 लाख) प्रति माह होता है और उसके साथ कई सुविधाएं भी दे जाती है। वही एक IPS का वेतन दो लाख पच्चीस हजार (2.25 लाख) प्रतिमाह होता है।

एक क्षेत्र में एक IAS ही होता है। वही IPS की बात करे तो एक से अधिक हो सकते हैं। IAS ही किसी जिले की DM बनता है और एक जिले के SP एक IPS ही बनता है।

IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) इन दोनों में ज्यादा शक्तिशाली कौन है ?

IAS एक DM के रूप में ज्यादा शक्तिशाली होता है। वही एक IPS उनके पास केवल अपने विभाग की जिम्मेदारी होती है। डीएम के रूप में एक आईएएस अधिकारी पुलिस विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों का मुखिया होता है। कुछ कारणों से आईपीएस से ज्यादा शक्तिशाली आईएएस की मानी जाती है।

पहला कारण यह है कि राज्य का डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस डी जे पी राज्य का एक शक्तिशाली पुलिस अधिकारी होता है लेकिन उसे गृह सचिव को रिपोर्ट करना पड़ता है। वही सचिव रैंक का जो अधिकारी होता है। वह एक आईएएस अधिकारी ही होता है ऐसे में आईपीएस आईपीएल को रिपोर्ट करते हैं।

वैसे मे एक आईपीएस को आईएस के अंदर कार्य करना पड़ता है। आपको बता दें डीजीपी को गृह सचिव को रिपोर्ट करने की आवश्यकता होती है और गृह सचिव डीजीपी का बॉस नहीं होता है।

वह एक दूसरे के साथ काम करते हैं और अब आप समझ गए होंगे कि IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में ज्यादा शक्तिशाली कौन है और उनकी सैलरी क्या होती है।

यदि आप सभी को आज का हमारा यह लेख ( IAS & IPS : इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (Indian Administrative Service) और इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Service) में क्या अंतर होता है और उनकी सैलरी क्या होती है एवं कौन किस पर भारी होता है ?) पसंद आया हो तो कृपया करके आप सभी हमारे इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

ताकि वह सभी लोग भी अपनी मदद खुद करो  help yourself  लेख से मोटिवेट हो सके और दूसरों को समझा सके।

इसे भी पढ़ें :

अपनी मदद खुद करो help yourself

चिंता चिता के समान है Anxiety is like a pyre

PM Kisan Mandhan Yojana 2022 किसानों को प्रति वर्ष मिलेंगे 36 हजार रुपये

Mars 2050 क्या मंगल ग्रह पर 2050 तक बसाई जा सकती है इंसानी बस्ती?

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top