NEP 2020 क्या है ? नई शिक्षा नीति 2020 क्या है और उसका उद्देश्य क्या है ?

NEP 2020 क्या है ? नई शिक्षा नीति 2020 क्या है और उसका उद्देश्य क्या है ? लगभग तीन दशक बाद भारत में राष्ट्रीय शिक्षा नीति में बदलाव किया गया है। 1968 और 1986 के बाद यह तीसरी राष्ट्रीय शिक्षा नीति है, जिसे प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली केंद्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी दी है, इसरो प्रमुख रह चुके डॉक्टर के० कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता वाली समिति ने नई शिक्षा नीति का मसौदा तैयार किया है।

वस्तुत: मानव संसाधन विकास मंत्रालय, (Ministry of Human Resources Development MHRD) का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय रखा गया है। नई शिक्षा नीति के तहत शिक्षा क्षेत्र पर सरकार देश की जीडीपी का 6% हिस्सा निवेश किए जाने का लक्ष्य है।

NEP 2020 क्या है नई शिक्षा नीति 2020 क्या है और उसका उद्देश्य क्या है

नई शिक्षा नीति का उद्देश्य

  1. नई शिक्षा नीति (NEP) के तहत ‘शिक्षा और सीखने’ की पुनः शक्ति ध्यान आकर्षित करना है तथा भारत में शिक्षा व्यवस्था को गुणवत्तापूर्ण बनाने का एक अहम प्रयास है।
  2. व्यवसायिक शिक्षा और कौशल विकास को बढ़ावा देने का उद्देश्य बच्चों की स्कूली शिक्षा के दौरान रोजगार के लायक बनाना है।
  3. बोर्ड परीक्षा में मुख्य उद्देश्य ज्ञान की परीक्षण पर होगा ताकि छात्रों में रटने की प्रवृत्ति कम हो। नई शिक्षा प्रणाली से जुड़े बदलाव
  4. प्रारंभिक शिक्षा NEP 2020 में पाठ्यक्रम 10+2 की जगह 5+3+3+4 के अनुसार होगा।
  5. प्रिप्रेटरी स्टेज के तहत कक्षा 3 से 5 तक की पढ़ाई होगा । यद्यपि इसमें प्रयोगोके माध्यम से गणित, विज्ञान, कला की पढ़ाई कराई जाएगी।
  6. मिडिल स्टेज के तहत 6 से 8 तक की कक्षाएं होगी और इसके तहत विषय पर आधारित पाठ्यक्रम पढ़ाया जाएगा तथा प्रोग्रेशनल और कौशल विकास कोर्स की भी शुरुआत होगी। स्थानीय स्तर पर इंटरशिप(internership) भी दी जाएगी।
  7. सेकेंडरी स्टेज के तहत 9 से 12 तक की पढ़ाई दो चरणों में होगी जिसमें विषयों का गहन अध्ययन कराया जायेगा। इसमें विषयो को चुनने की स्वतंत्रता होगी।
  8. दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं में बड़े बदलाव किए जाएंगे जिसमें साल में दो बार परीक्षाएं होगी। एक बार ऑब्जेक्टिव टाइप तथा दूसरी बार सब्जेक्टिव टाइप।
  9. पांचवी तक की शिक्षा का माध्यम मातृभाषा स्थानीय भाषा या क्षेत्रीय भाषा ही होगी वस्तुतः विदेशी भाषा की पढ़ाई नवी कक्षा से होगी।
  10. त्रि -भाषा फॉर्मूला के तहत राज्य क्षेत्र और छात्र की पसंद को वरीयता दी जाएगी। जिसमें छात्रों को कम से कम 2 भारतीय भाषा चुनना अनिवार्य होगा।

उच्च शिक्षा

  1. नई शिक्षा के तहत छात्र स्नातक स्तर की पढ़ाई में किसी भी स्तर पर पाठ्यक्रम छोड़ सकेंगे। जिसमें 1 वर्ष के बाद कोर्स छोड़ने पर सर्टिफिकेट, 2 वर्षों के बाद डिप्लोमा, 3 वर्षों के बाद स्नातक की डिग्री तथा 4 वर्षों के बाद संपूर्ण डिग्री मिलेगी।
  2. विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों से प्राप्त हो या क्रेडिट को डिजिटल रूप में सुरक्षित रखने के लिए एकेडमी बैंक ऑफ क्रेडिट (academic bank off credit) होगा।
  3. NEP -2020 के M-phil कार्यक्रम समाप्त कर दिया जाएगा।

उच्च शिक्षा का लक्ष्य

उच्च शिक्षा में 2035 तक 50 % gross enrollment ratio पहुंचाने का लक्ष्य है। जिसके तहत 3.5 करोड़ नई सीटे जोड़ने की योजना है। 2030 तक या उसके बाद हर जिले में कम से कम एक बड़ी बहू -विषयक (multidisciplinary) संस्था बनाने का लक्ष्य है ।

अन्य घोषणाएं

  1. उच्च शिक्षा में UGC, AICTE, NCTE की जगह अब तक एक ही नियामक ( Regulator) होगा अर्थात शिक्षा क्षेत्र के लिए एक निकाय के रूप में भारत उच्च शिक्षा आयोग का गठन किया जाएगा।
  2. वैश्विक स्तर की यूनिवर्सिटीज को भारत में अपना ब्रांच खोलने की अनुमति दी जाएगी।
  3. इलेक्ट्रॉनिक पाठ्यक्रम क्षेत्रीय भाषाओं में विकसित करने की योजना है।
  4. सभी भारतीय भाषाओं के लिए संरक्षण और विकास की योजना है।

चुनौतियां

  1. NEP के तहत GDP का 6% हासिल करना चुनौतीपूर्ण है।
  2. 50% grass enrollment ratio पहुंचाने के लिए सरकार की योजना तय नहीं है।
  3. NEP में एक ही नियामक होने से शिक्षा का केंद्रीयकरण हो सकता है।

आज के इस लेख में हमने NEP 2020 के बारे में जाना । मुझे उम्मीद है की आप सभी को आज का हमारा यह लेख बहुत पसंद आया होगा, यदि पसंद आया हो तो कृपया आप सभी इस लेख को अपने सभी दोस्तों के साथ में जरुर शेयर करें।

आपका बहुत-बहुत धन्यबाद !

इस भी पढ़ें –

1 thought on “NEP 2020 क्या है ? नई शिक्षा नीति 2020 क्या है और उसका उद्देश्य क्या है ?”

  1. Pingback: How to Become Rich Person in Hindi अमीर व्यक्ति कैसे बनें ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top