PM Ayushman India Health Infrastructure Mission पीएम आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन क्या है?

पीएम आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन क्या है? What is PM Ayushman India Health Infrastructure Mission?

महत्वपूर्ण बिन्दू

PM Ayushman India Health Infrastructure Mission : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 25 अक्टूबर 2021 को उत्तर प्रदेश के बनारस से आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर  मिशन का  शुभारंभ किया गया है। हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन का मतलब यह है कि यदि कोई व्यक्ति बीमार होता है तो उसे अच्छे अस्पताल और जांच करने के लिए अच्छी लेबोरेटरी मौजूद हो इसलिए सरकार ने इस मिशन को लांच किया है ।

PM Ayushman India Health Infrastructure Mission
PM Ayushman India Health Infrastructure Mission

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन में क्या किया जाएगा?

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन के अंतर्गत 17788 ग्रामीण स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र (Rural Health and Wellness Centre.) पूरे देश भर में स्थापित किए जाएंगे। भारत के अंदर स्वास्थ्य क्षेत्र में पिछड़े 10 राज्यों को विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसी मिशन में  11024 स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र शहरों में स्थापित किए जाएंगे।

602 जिलों में क्रिटिकल केयर अस्पताल बनाए जाएंगे। 1200 सेंटर अस्पताल और 1800 एडिशनल बेड बनए जाएंगे। दिल्ली एम्स के अंदर 150 क्रिटिकल बेड का ब्लॉक बनाए जाएंगे। क्रिटिकल केयर ब्लॉक उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में भी बनाया जाएंगे ।

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन कहां पर शुरू की जाएंगी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन को लॉन्च किया गया। इसके अंतर्गत स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत किया जाएगा। भारत के जिस भी जिले में 5 लाख लोगों की जनसंख्या है वहां पर क्रिटिकल केयर सर्विस शुरू की जाएंगी ।

भारत के सभी जिलों में लोगों की स्वास्थ्य को जांच करने के लिए लैब बनाई जाएंगी। संपूर्ण देश के अंदर इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी के माध्यम से बीमारियों को कैसे कंट्रोल किया जाए इस पर काम किया जाएगा।

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन में सरकार द्वारा कितने रुपए खर्च किए जाएंगे?

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन में 64180 करोड रुपए अगले 5 साल में भारत सरकार इस योजना में खर्च करेगी।

ऐसा क्यों किया जा रहा है?

ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कोरोना काल में इन्हीं स्वास्थ्य संबंधी चीजों का अभाव देखा गया था। उस समय तमाम लोगों ने सरकार से यह मांग की थी कि अगर समय रहते सरकार इन सारी सुविधाओं को पहले ही तैयार कर ली होती तो आज कोरोना काल में मरने वाले लोगों की संख्या इतनी ज्यादा नहीं होती।

सरकार पहले ही अस्पतालों और बेडो की व्यवस्था कर ली होती तो दुनिया भर मे भारत की जो भी कमियां है वह उजागर नहीं होती। आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन के तहत भारत उन भविष्य में आने वाली परेशानियों से बचने के लिए अभी से ही पूरी तैयारी कर रहा है।

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन में उत्तर प्रदेश सरकार का क्या लक्ष्य है?

उत्तर प्रदेश सरकार का यह लक्ष्य है कि उत्तर प्रदेश के हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज हो। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के 9 जिलों में मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन कर दिया गया है। 9329 करोड़ों रुपए की लागत से इन 9 जिलों में मेडिकल कॉलेजो को बनाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार एक जिला एक मेडिकल कॉलेज की योजना को आगे बढ़ा रही है।

उत्तर प्रदेश के किन 9 जिलों में मेडिकल कॉलेज बनाई जा रही है ?

जिस समय मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन किया जा रहा था ठीक उसी समय प्रधानमंत्री ने आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन को लांच कर दिया । क्योंकि उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में इस तरह के मेडिकल कॉलेज बनाने की बात की गई है। उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर, देवरिया, एटा, हरदोई, गाजीपुर, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, फतेहपुर और जौनपुर में मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं।

आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में बनाए जा रहे मेडिकल कॉलेजो का क्या फायदा होगा?

अगर उत्तर प्रदेश में यह 9 मेडिकल कॉलेज बन जाते हैं तो UP मे 900 MBBS की सीटे उपलब्ध हो जाएंगी। जिससे बच्चे MBBS की पढ़ाई कर सकेंगे। 3000 चिकित्सीय बेड उपलब्ध कराई जाएंगी और 5800 डॉक्टरों की तैनाती की जाएंगी।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन क्या है?

27 सितंबर 2021 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन को लांच किया।आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन पूरे देश में लॉन्च कर दिया गया है। देश के सभी हॉस्पिटल क्लिनिक्स डॉक्टर्स और नर्सों को इस पोर्टल से जोड़ा जाएगा।

इसका फायदा यह होगा कि जब भी आप किसी हॉस्पिटल या क्लीनिक पर जाएंगे तो तो आपको मेडिकल हिस्ट्री से जुड़ी डॉक्यूमेंट को अपने पास रखने की जरूरत नहीं होगी। आपकी मेडिकल हिस्ट्री आपके हेल्थ आईडी पर डिजिटल रूप से सेव रहेंगी। जिसको किसी भी हॉस्पिटल या क्लीनिक पर आसानी से चेक किया जा सकता है।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के क्या फायदे है?

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत आपका एक हेल्थ आईडी कार्ड बनाया जाएगा जिसके माध्यम से ऑनलाइन इंफ्रास्ट्रक्चर को रखा जाएगा। हर व्यक्ति को अपना डिजिटल हेल्थ कवर किया जाएगा। इनकी स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों को पूरी तरह सुरक्षित रखा जाएगा।
अगर आप डॉक्टर से किसी बीमारी का जांच कराते हैं तो उसके सभी डिटेल्स को ऑनलाइन चढ़ा दिया जाएगा।

इसका एक फायदा यह भी होगा कि अगर आप किसी भी डॉक्टर को दिखाने जाते हैं तो आपकी स्वास्थ्य संबंधित जानकारी इस हेल्थ आईडी से पूरी रिपोर्ट निकाली जा सकती है। आपके हेल्थ हिस्ट्री के बारे में पूरी जानकारी करने के बाद डॉक्टर आसानी से दवाइयां दे सकेगा।

इससे आपका क्या नुकसान हो सकता है?

अगर किसी भी प्रकार से डाटा लीक हो जाता है तो आपकी प्राइवेसी को नुकसान हो सकता है।

हेल्थ आईडी कैसे बनाएं?

हेल्थ आईडी बनाने के लिए सबसे पहले आपको दिए गए लिंक पर क्लिक करना होगा –
👉 https://healthid.ndhm.gov.in/
👉 Create your Health ID now
👉 Generate vai Aadhaar
👉 Aadhaar Number / Virtual ID*

आधार नंबर डालने के बाद नीचे दिए गए टर्म्स को एक्सेप्ट कर ले और नीचे दिए गए कैप्चा को भर ले। आपकी आधार कार्ड में जो मोबाइल नंबर लिंक होगा उस पर एक OTP भेजा जाएगा उस OTP को भरकर सबमिट कर दें। उसके बाद आपको एक मोबाइल नंबर डालना पड़ेगा जिस मोबाइल नंबर को आप अपने हेल्थ आईडी से जोड़ सकते हैं।

फिर उस नंबर पर भी एक ओटीपी जाएगा उसे डालकर सबमिट कर दे उसके बाद आपकी पूरी जानकारी आ जाएगी। इसके बाद आपको एक हेल्थ आईडी जनरेट करनी होगी। हेल्थ आईडी भरने के बाद आपको सबमिट करना होगा जिसके बाद हेल्थ आईडी बन कर तैयार हो जाएगी जिसे आप डाउनलोड करके रख सकते हैं।

चीन में मस्जिद से गुंबद और मीनारें क्यों हटाई जा रही हैं? Why are the domes and minarets being removed from the mosque?

What is the dispute between Ukraine and Russia? यूक्रेन और रूस के बीच क्या विवाद है?

Online paise Kaise kamaye|Ghar se Paise kaise kamaye

What is DTP? ( Desk Top Publishing ) DTP का इतिहास, लाभ और उपयोग

चीन ने किया ऐसा मिसाइल परीक्षण जिसको अमेरिका भी नहीं पकड़ सका !!

Why did Facebook change its name? फेसबुक ने अपना नाम क्यों बदला?

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top