Purvanchal Expressway India’s longest Expressway भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे.

Purvanchal Expressway : 16 नवंबर 2021 को देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेस-वे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे मिला है जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र जी द्वारा किया गया है। यह एक्सप्रेस-वे भारतीय सेना के लिए काफी उपयोगी है। जो यूपी के विकास के लिए भी सहायक होगी।

Purvanchal Expressway India's longest Expressway
Purvanchal Expressway India’s longest Expressway

एक्सप्रेस-वे क्या होते हैं?

What are expressways? एक्सप्रेस-वे उस रास्ते को कहते हैं जिस रास्ते पर सीधा दूसरा रास्ता आकर नहीं मिलता है या उस एक्सप्रेस-वे पर कोई दूसरा व्यक्ति सीधे आकर नहीं चढ़ सकता है ऐसे रास्ते को एक्सप्रेस-वे ( Expressway ) कहा जाता है।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की क्या विशेषता है ?

Features of Purvanchal Expressway : यह एक्सप्रेस-वे सामान्यत: जमीन से काफी ऊंचाई पर बनाए जाते हैं। जिस रास्ते पर गाड़ी की स्पीड काफी अच्छे से मेंटेन किया जा सकता है। इस हाईवे पर जाम की कोई समस्या नहीं होती है और ना ही यह हाईवे किसी शहर से होकर गुजरते हैं। इस हाईवे पर किसी भी शहर का मुख्य सड़क आकर सीधे नहीं मिलती है।

इस एक्सप्रेस-वे पर बैरिकेडिंग होती है जिस पर कोई पशु जैसे गाय, बकरी नहीं आ सकते हैं इसलिए इस हाइवे को काफी सुरक्षित माना जाता है। जिसके चलते इस एक्सप्रेस-वे पर गाड़ी चलाना काफी आसान होता है।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के बनने के बाद इस क्षेत्र में इंडस्ट्रियल कारोबार को बढ़ावा मिलेगा। इस एक्सप्रेस वे को बनाने का काम उस समय भी हो रहा था जिस समय उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में बाढ़ आई हुई थी और कोरोना काल का समय चल रहा था।

ऐसा यमुना एक्सप्रेसवे, लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे और ऐसा ही कार्य पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर भी किया गया है। इस एक्सप्रेस-वे के बारे में यह कहा जा रहा है कि यह एक्सप्रेस वे आने वाले समय में पटना तक इसको बढ़ाया जाएगा।

इस एक्सप्रेस वे का बनाने का काम UPEIDA ( UP Expressway Industrial Development Authority ) के द्वारा रिकॉर्ड 40 महीने में तैयार किया गया है। यह तब तक ही देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे रहेगा जब तक कि मुंबई दिल्ली एक्सप्रेस में बनकर तैयार नहीं हो जाता है।

2023 तक दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे भी बनकर तैयार हो जाएगा जो आने वाले समय में देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा। इस एक्सप्रेस वे के वन जाने से गाजीपुर, मऊ और आजमगढ़ क्षेत्रों में हैंडलूम का कार्य बहुत होता है।

अब हैंडलूम को इस एक्सप्रेस-वे के माध्यम से लखनऊ और दिल्ली पहुंच जाएंगे ज्यादा समय नहीं लगेगा। इन क्षेत्रों में फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाई जाएगी। कोल्ड स्टोरेज बनेंगे । उत्तर प्रदेश का पूर्वी एरिया जिसे काफी पिछड़ा हुआ माना जाता है वहां पर गोडाउन, कृषि मंडी बनेंगी।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे कितने लेन का बनाया गया है ?

यह पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे वर्तमान में 6 लेन का बनाया गया है, जो भविष्य में 8 लेन का बनाया जा सकता है। यह एक्सप्रेसवे लखनऊ को जोड़ेगा बिहार के बॉर्डर से जो गाजीपुर तक जाएगा और इससे उत्तर प्रदेश में आने वाले समय में इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा मिलेगा। इसके बनाने से पूरे पूर्वांचल क्षेत्र को गोरखपुर से इसकी कनेक्टिविटी का प्रसार होगा।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, किसी जगह पर यात्रा कितने घंटे में पूरी की जा सकती है?

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के माध्यम से लखनऊ से गाजीपुर की यात्रा मात्र 3.5 घंटों में पूरी की जा सकेंगी। यह पूर्वी छोर से लेकर दिल्ली का सफर मात्र 10 घंटों में पूरा कर सकते हैं। ऐसा सोच कर के इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण किया गया है। चांद सराय से यूपी-बिहार सीमा मात्र 18 किलोमीटर तक रह जाएगी।

इस पूर्वांचल एक्सप्रेस के बनने के बाद किसानों को अपना फसल एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में काफी उपयोगी होगा।

👉 Purvanchal Expressway का शिलान्यास कब हुआ था?
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास 14 जुलाई 2018 को हुआ था।

👉 Purvanchal Expressway की लंबाई कितनी किलोमीटर है ?
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की लंबाई 341 किलोमीटर है।

👉Purvanchal Expressway को बनने में कितना समय लगा है ?
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे मात्र 40 महीने में बनकर तैयार हो गया है।

👉 Purvanchal Expressway को बनाने में कितना खर्च आया है?
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को बनाने में 22000 करोड रुपए का खर्च आया है।

जो अनुमानित लागत से 5% कम है। यह पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लखनऊ-सुल्तानपुर रोड एनएच 731 पर स्थित है। यह पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे 3.75 मीटर चौड़ी सर्विस रोड है। इस पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर सुल्तानपुर के पास 3.2 किलोमीटर लंबी हवाई पट्टी का भी निर्माण किया गया है जहां से लड़ाकू विमान भी उड़ और उतर सकते हैं।

इस एक्सप्रेस-वे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी खुद हरक्यूलिस लड़ाकू विमान जो सेना का सामान ले जाने वाला विमान है उससे इस हाईवे पर उतर कर इसकी टेस्टिंग की है। इस एक्सप्रेस वे का इस्तेमाल भारतीय सेना कर सकेगी ।

भारत ने अब अपने यहां कि जो हाईवे हैं उन्हें इस प्रकार से बनाना शुरू कर दिया है ताकि भविष्य में भारत का किसी दूसरे देश से युद्ध हो और युद्ध के दौरान भारत की जो रक्षा क्षेत्र है, एयर फोर्स स्टेशन है उसका यदि नुकसान किसी दूसरे देश के माध्यम से किया जाता है तो ऐसी स्थिति में इस एक्सप्रेस-वे का उपयोग भारतीय सेना कर सकती है।

RBI Retail Direct Scheme and Integrated Ombudsman Scheme. क्या है ?

United Nation Security Council मे क्यों नहीं मिल रहा है भारत को स्थायी सीट और Veto पावर ?

UP GK / GS Which is Useful for all Competitive Exams

Modern Indian History which is useful for all competitive exams.

What is Virat Kohli’s gay controversy? विराट कोहली का समलैंगिकों से जुड़ा हुआ विवाद क्या है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top