UPSC Kya Hai Full Details in Hindi UPSC की पूरी जानकारी

UPSC Kya Hai Full Details. आज का हमारा है यह लेख उन सभी विद्यार्थियों के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है जो लोग UPSC की तैयारी करते हैं या फिर UPSC की तैयारी करने के बारे में सोच रहे हैं ।

क्योंकि इस लेख में हम बात करेंगे की UPSC क्या होता है ( What is UPSC in hindi ) , UPSC कौन-कौन से एग्जाम कंडक्ट करवाता है, इसमें एग्जाम देने के लिए आपकी योग्यता कितनी होनी चाहिए और UPSC में एग्जाम क्लियर करने के बाद आप सभी को कौन-कौन से पोस्ट मिलते हैं ।

यदि आप एक स्टूडेंट है और UPSC के बारे में कोई जानकारी ढूंढ रहे हैं तो आप सभी बिल्कुल सही जगह पर हैं क्योंकि हमने इस लेख में UPSC से जुड़ी सारी जानकारी बताया है । यह सभी जानकारी आप सभी के लिए बहुत अधिक महत्वपूर्ण है तो आप सभी इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें ।

UPSC-Kya-Hai-Full-Details-in-Hindi-Hindi-GS-by-Rakesh-Kumar-Gond-1-1

यहां पर हमने नीचे दिए हुए महत्वपूर्ण बिंदु को बिल्कुल विस्तार से बताया है जैसे-

1 UPSC क्या है ?
2 UPSC के द्वारा कौन-कौन सी परीक्षाएं आयोजित की जाती है ?
3 UPSC का एग्जाम कौन दे सकता है ?
4 UPSC में किसको कितना बार मौका मिलता है ?
5 UPSC एग्जाम की प्रक्रिया क्या होता है ?
6 UPSC की तैयारी कैसे करें और कहां से करें ?
7 UPSC से जुड़े महत्वपूर्ण Short Form के Full Form
8 UPSC के बाद कौन सी Job मिलती है ?

UPSC क्या है What is UPSC in hindi

UPSC क्या होता है यह जानने से पहले हमें यह जानना पड़ेगा की PSC क्या होता है । जब हम यह जान जाएंगे PSC क्या होता है तो हमें UPSC को समझना बहुत ज्यादा आसान हो जाएगा ।

PSC क्या होता है What is PSC in hindi

PSC का मतलब Public Service Commission होता है और इसे हिंदी में लोक सेवा आयोग कहते हैं । Public Service Commission सरकार की एक ऐसी संस्था है जिसके द्वारा ग्रुप ए और ग्रुप बी की यानी कि प्रथम और द्वितीय श्रेणी की अधिकारियों का चयन इसी के द्वारा किया जाता है । ​PSC का स्थापना आजादी से पहले 1 अक्टूबर 1926 को हुआ था ।

आजादी के बाद सन 1950 में पब्लिक सर्विस कमीशन ( Public Service Commission ) यानी कि PSC में परिवर्तन किए गए और पीएसी के जितने अधिकार थे उन सभी अधिकारों में विस्तार किया गया और उसके बाद PSC को ही UPSC का नाम दे दिया गया, जिसे हम आज के समय में UPSC यानी कि यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ( Union Public Service Commission ) और इसे हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग कहते हैं ।

” UPSC को पहले PSC के नाम से जाना जाता था । 1 अक्टूबर 1950 को इसके अधिकारों में कुछ परिवर्तन करने के बाद उसको UPSC का नाम दे दिया गया । “

  • PSC का Full Form Public Service Commission होता है ।
  • UPSC का Full Form Union Public Service Commission होता है ।
  • PSC का स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को हुआ था ।
  • UPSC का स्थापना 26 अक्टूबर 1950 को हुआ था ।

UPSC भारत की एक केंद्रीय संस्था है । UPSC का मुख्य काम प्रथम चरण के अधिकारीयों और द्वितीय चरण के अधिकारियों का चयन करना होता है । UPSC के माध्यम से ही देश में आईएएस, आईपीएस और बहुत सारे ए ग्रेड और बी ग्रेड के अधिकारियों का चयन किया जाता है ।

UPSC के द्वारा कौन-कौन सी परीक्षाएं आयोजित की जाती है

UPSC के द्वारा निम्नलिखित परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं जैसे-

Civil Services Exam ( CSE )
Indian Administrative Services ( IAS )
Special Class Railway Apprentice ( SCRA )
Combind Defence Services ( CDS )
National Defence Academy ( NDA )
Indian Forest Services ( IFS )
Engineering Services Examination ( ESE )

इन सभी एग्जाम में से आप अपनी इच्छा अनुसार किसी का भी तैयारी कर सकते हैं । यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप भविष्य में क्या बनना चाहते हैं । जो आप बनना चाहते हैं उसी के हिसाब से अपनी तैयारी को निरंतर कर सकते हैं ।

UPSC का एग्जाम कौन दे सकता है

UPSC का एग्जाम देने के लिए आपके पास निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए ।

  • शैक्षणिक योग्यता – ग्रेजुएशन
  • उम्र सीमा-
    सामान्य वर्ग- 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक का कोई भी विद्यार्थी परीक्षा दे सकता है ।
    ST – SC की उम्र सीमा में 5 वर्ष का छूट है ।
    अन्य पिछड़ा वर्ग- 3 वर्ष का उम्र सीमा में छूट है ।

UPSC का एग्जाम देने के लिए विद्यार्थी को कम से कम ग्रेजुएट होना चाहिए । यदि कोई विद्यार्थी ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष में है तो भी UPSC का एग्जाम दे सकता है ।

UPSC के एग्जाम में बैठने के लिए सामान्य वर्ग का 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक उम्र निर्धारित की गई है । इसमें 32 वर्ष से अधिक का कोई भी व्यक्ति जो सामान्य वर्ग का है वह एग्जाम नहीं दे सकता है ।

ST – SC की उम्र सीमा में 5 वर्ष की छूट दी गई है । अगर कोई विद्यार्थी sc-st कैटेगरी का है तो वह 37 वर्ष की उम्र तक भी इस एग्जाम को दे सकता है ।

यदि हम अन्य पिछड़ा वर्ग की बात करें तो इसमें केवल 3 वर्ष का छूट होता है । अगर कोई विद्यार्थी अन्य पिछड़ा वर्ग का है तो वह 35 वर्ष की उम्र तक एग्जाम को दे सकता है ।

UPSC में किसको कितना बार मौका मिलता है

UPSC के एग्जाम में परीक्षा देने के मौके उनके श्रेणी के आधार पर निम्नलिखित है ।

  • सामान्य श्रेणी- 6
  • OBC – 9
  • sc-st- असीमित

UPSC की परीक्षा में सामान्य श्रेणी वाले विद्यार्थी को परीक्षा में बैठने का 6 बाहर मौके दिए जाते हैं । OBC कैटेगरी को 9 बार मौका दिया जाता है और sc-st या फिर किसी अन्य केटेगरी का है तो असीमित बार मौका दिया जाता है ( उसके उम्र सीमा तक ) ।

UPSC की एग्जाम प्रक्रिया क्या होता है

1 प्रारंभिक परीक्षा ( Preliminary Exam )
2 मुख्य परीक्षा ( Main Exam )
3 साक्षात्कार ( Interview )

UPSC एग्जाम की प्रक्रिया 3 चरणों में होती है । प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार ।

प्रारंभिक परीक्षा ( Preliminary Exam )

प्रारंभिक परीक्षा जून और जुलाई महीने में आयोजितकी जाती है । परीक्षा के इस चरण में विद्यार्थी को दो पेपर देने होते हैं ।

  • सामान्य अध्ययन ( General Study )
  • सिविल सर्विसेज एप्टिट्यूड टेस्ट ( CSAT)

इसमें प्रत्येक पेपर 200 अंक का होता है । इस एग्जाम में पूछे गए सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होते हैं जिसको आपको केवल ट्रिक लगाना होता है । इन दोनों पेपर को देने लिए आपको 2-2 घंटे का समय दिया जाता है ।

इस परीक्षा का सबसे खास बात यह होता है इसका कोई भी नंबर मुख्य परीक्षा में नहीं जोड़ा जाता है लेकिन आप प्रारंभिक परीक्षा को पास किए बिना मुख्य परीक्षा में नहीं बैठ सकते हैं।

आईएएस परीक्षा की फाइनल मेरिट में केवल मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्राप्त किए गए अंक को ही जोड़ा जाता है और उसी के अनुपात में ही आपका रैंक निर्धारित किया जाता है ।

मुख्य परीक्षा ( Main Exam ) UPSC Civil Services Mains Exam Pattern

UPSC के मुख्य परीक्षा में आपको टोटल 9 पेपर देने होते हैं । इसके प्रत्येक क्वेश्चन पेपर 180-200 नंबर तक के होते हैं और यह टोटल 1750 नंबर का होता है। इसमें प्रत्येक पेपर के लिए आपको 3-3 घंटे का समय दिया जाता है । यह पेपर नवम्बर से दिसंबर के बिच में होता है ।

UPSC First Paper ( Language Paper )

UPSC परीक्षा के सबसे पहले प्रथम प्रश्न पत्र में आपको 18 भारतीय भाषाओं में से किसी एक भाषा को चुनकर के एग्जाम देना होता है और यह पेपर पूरे 300 अंकों का होता है जिसमें 20 से 25 प्रश्न पूछे जाते हैं । यहां पर एक बात का विशेष ध्यान दें की इस पेपर का कोई भी अंक फाइनल रिजल्ट में नहीं जोड़ा जाता है ।

UPSC Second Paper ( Language Paper )

दूसरे प्रश्न पत्र में आपको इंग्लिश भाषा का एग्जाम देना होता है यह प्रश्न पत्र भी 300 अंक का होता है । इस प्रश्न पत्र का कोई भी अंक फाइनल एग्जाम में नहीं जोड़ा जाता है ।

UPSC Third Paper ( Essay )

तीसरा पेपर हमारा Essay यानी कि निबंध लेखन का होता है । इस पेपर के 2 पार्ट होते हैं जिसमें से आपको दोनों पार्ट में से कोई 1-1 निबंध लिखना होता है । यह पेपर 250 अंक का होता है । इस पेपर के परिणाम फाइनल रिजल्ट में जोड़ा जाता है ।

अब हम बात कर लेते हैं 4,5,6 और 7वां पेपर के बारे में । यह सभी प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन के होते हैं इसमें जितने भी प्रश्नपत्र होते हैं वे सभी 250 अंक के होते हैं । इन सभी पेपर में सामाजिक,आर्थिक और भी कई तरह के पेपर होते हैं । जिसमे अलग-अलग परस्थितियों में आपकी समझ की परीक्षा ली जाती है ।

8वाँ और 9वाँ पेपर वैकल्पिक विषय होते हैं मतलब की Optional पेपर होते हैं। इन सभी पेपर को आप अपने इच्छा के अनुसार चुन सकते हैं । इसमें एक पेपर में 250 अंक मिलते हैं मतलब की ये दोनों पेपर मिलकर 500 अंक के होते हैं और ये सभी अंक आपके फाइनल रिजल्ट में जोड़े जाते हैं। तो आप चाहें तो इसमें अच्छे अंक ला सकते हैं । क्यूंकि ये optional पेपर होते हैं जिसे आप अपनी इच्छा से चुनते हैं ।

साक्षात्कार ( Interview )

जब आप इन दोनों परीक्षाओं को पास कर लेते हैं तब आता है आपका Interview यानि साक्षात्कार, यह फ़रवरी से अर्पिल के बिच में होता है । साक्षात्कार, सिविल सर्विसेज परीक्षा का सबसे महत्पूर्ण और अंतिम चरण होता है ।

जब आप मुख्या परीक्षा को पास कर लेते हैं तब आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है । यह टोटल 250 अंक का होता है । इसमें आपको जितने भी अंक मिलते हैं वे सभी अंक मेरिट लिस्ट में जोड़े जाते हैं।

Interview को हम अपने हिसाब से किसी भी भाषा में दे सकते हैं जैसे – यदि आप चाहें तो हिंदी में दे सकते हैं या फिर अंग्रेजी में सकते हैं या फिर अन्य किसी और भाषा में भी दे सकते हैं ।

UPSC की तैयारी कैसे करें और कहां से करें

UPSC का एग्जाम बहुत बड़े लेवल पर आयोजित किए जाने वाला एग्जाम होता है । इस एग्जाम में बहुत ही ज्यादा कंपटीशन होता है । इसमें सफल होने के लिए आपको इमानदारी से मेहनत करने की जरूरत होती है ।

UPSC की तैयारी कैसे करें और कहां से करें

UPSC की तैयारी आप मुख्यतः 3 तरीके से कर सकते हैं जैसे

  • कोचिंग ज्वाइन करके
  • इन्टरनेट की सहायता से
  • न्यूज़ पेपर या फिर सेल्फ स्टडी करके

कोचिंग ज्वाइन करके

UPSC की तैयारी करने के लिए अलग-अलग शहर में कई प्रकार के कोचिंग इंस्टिट्यूट खुले हुए हैं जिसमें से आप अपने हिसाब से कोई अच्छा कोचिंग सेंटर देख कर के उसको ज्वाइन कर सकते हैं और वहां से यात्रा को शुरू कर सकते हैं ।

कोचिंग ज्वाइन करने से सबसे बड़ा फायदा होता है कि आपको वहां पर आपकी टॉपिक से जूड़ी सारी चीजें प्रोवाइड करा दी जाती हैं और सबसे अच्छी बात वहां पर यह होती है कि आपको स्टडी करने के लिए एक अच्छा माहौल मिल जाता है जिससे आपका पढ़ने में काफी मन लगता है ।

इन्टरनेट की मदद से

इंटरनेट आज के समय में किसी भी विद्यार्थी के लिए सबसे बड़ा टूल्स है बस आपको इसका सही इस्तेमाल करना आना चाहिए । यदि आप इंटरनेट का सही तरीके से इस्तेमाल करते हैं तो आप सभी इस के माध्यम से घर बैठे भी UPSC की तैयारी कर सकते हैं ।

यहां पर आपको हर वह मटेरियल मिल जाएगा जो आपको चाहिए । बस आपको उस सभी मैटेरियल्स को अच्छे से उपयोग करना आना चाहिए । यदि आप उसका सही तरीके से उपयोग करेंगे तो यकीनन आप इंटरनेट की मदद से बहुत अच्छी तयारी कर पाएंगे ।

न्यूज़ पेपर या फिर सेल्फ स्टडी करके

आप सभी न्यूज़पेपर के माध्यम से या फिर स्टडी करके UPSC की तैयारी कर सकते हैं । इसके लिए आपको न्यूज़ पेपर पढ़ने की जरूरत पड़ेगी । जहां से आप अपने एग्जाम के लिए मटेरियल इकट्ठा कर पाएंगे ।

UPSC के बाद Job कहाँ मिलेगा

अब आपके मन में एक सवाल आ सकता है की UPSC का एग्जाम क्लियर करने के बाद आपको कौन सा जॉब मिलेगा ।

UPSC का एग्जाम क्लियर करने के बाद कौन सा जॉब मिलेगा यह इस बात के ऊपर निर्भर करता है कि आपने UPSC के द्वारा आयोजित किस एग्जाम को क्वालीफाई किया है ।

यदि आप UPSC के द्वारा आयोजित सिविल सर्विस एग्जाम में अच्छे अंक से क्वालीफाई करते हैं तो आप कलेक्टर, अपर कलेक्टर और भी कई पदों पर जा सकते हैं । इसके अलावा और बहुत सारे पद है जो आप UPSC एग्जाम के द्वारा पा सकते हैं ।

आप स्टूडेंट हैं और UPSC की तैयारी करने के बारे में सोच रहे हैं तो यह आपके लिए सर्वोत्तम समय है । आज से और अभी से ही शुरुआत कर दीजिए । यदि आप अभी से शुरुआत कर लेते हैं तो आपके पास में पर्याप्त समय होगा एग्जाम को क्वालीफाई करने के लिए ।

UPSC से जुड़े महत्वपूर्ण Short Form के Full Form

  • PSC Full Form – Public Service Commission ( लोक सेवा आयोग )
  • UPSC Full Form – Union Public Service Commission ( संघ लोक सेवा आयोग )
  • CSE Full Form – Civil Services Exam ( सिविल सेवा परीक्षा )
  • IAS Full Form – Indian Administrative Services ( भारतीय प्रशासनिक सेवा )
  • IPS Full Form – Indian Police Services ( भारतीय पुलिस सेवा )
  • PCS Full Form – Provincial Civil Service ( प्रांतीय सिविल सेवा )
  • SCRA Full Form – Special Class Railway Apprentice ( स्पेशल क्लास रेलवे अपरेंटिस )
  • CDSE Full Form – Combined Defense Services ( संयुक्त रक्षा सेवाएँ )
  • NDA Full Form – National Defense Academy ( राष्ट्रीय रक्षा अकादमी )
  • IFS Full Form – Indian Forest Services ( भारतीय वन सेवा )
  • ESE Full Form – Engineering Services Examination ( इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा )
  • GS Full Form – General Study ( सामान्य अध्ययन )
  • CSAT Full Form – Civil Services Aptitude Test ( सिविल सेवा एप्टीट्यूड टेस्ट )
  • IFS Full Form – Indian Foreign Service ( भारतीय विदेश सेवा )
  • IRS Full Form – Indian Revenue Service ( भारतीय राजस्व सेवा )

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने सीखा UPSC क्या है, UPSC कौन-कौन से एग्जाम का आयोजित करवाता है, UPSC का एग्जाम कौन दे सकता है, UPSC एग्जाम में कितने बार मौका मिलता है, UPSC के एग्जाम की प्रक्रिया क्या होता है, UPSC की तैयारी कैसे करें और इसके बाद जॉब कहां लगेगी

मुझे पूरा उम्मीद है की आप सभी को आज का हमारा यह लेख बहुत पसंद आया होगा । यदि आज का हमारा यह लेख पसंद आया हो तो कृपया करके आप सभी हमारे इस लेख को अपने सभी साथियों के साथ जरूर शेयर करें और हमें कमेंट करके बताएं कि आप सभी को हमारा यह लेख कैसा लगा ।

इसे भी पढ़ें –

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ।

4 thoughts on “UPSC Kya Hai Full Details in Hindi UPSC की पूरी जानकारी”

  1. Pingback: Top 10 Richest People in India 2021 भारत के 10 सबसे आमिर व्यक्ति

  2. Pingback: Only 4 Rules of Success in Hindi सफलता के केवल 4 नियम

  3. I’m not that much of a internet reader to
    be honest but your blogs
    really nice, keep it up! I’ll go ahead and bookmark your website to come back
    later.
    Many thanks

  4. Pingback: 5 Habits of a Successful Student एक सफल छात्र की 5 आदतें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top