प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme

What is Prime Minister Nutrition Scheme. आज हम एक ऐसी योजना के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे प्रधानमंत्री पोषण योजना के नाम से जाना जाता है, जिसे हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना को 29 सितंबर 2021 को शुरू कीया है।

यह योजना सरकार द्वारा पहले से ही चलाई जा रही मिड डे मील ( मध्याह्न भोजन ) योजना का ही बदला हुआ रुप है। मिड डे मील योजना भारत सरकार द्वारा 1995 से ही चली आ रही है। जिसके अंतर्गत क्लास 1 से 8 तक के बच्चो को जो सरकारी स्कूलों में पढ़ते है ,उन बच्चों को एक वक्त का खाना सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

इस योजना में लाभान्वित बच्चों की संख्या 11.80 करोड़ है। जिसका नाम बदल कर प्रधानमंत्री पोषण योजना कर दिया गया है। पोषण का पूरा मतलब पोषण शक्ति निर्माण है।

प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme

इस योजना में नया क्या है?

सरकार ने जब मिड डे मील योजना शुरू की थी तो उस समय बच्चे क्लास 1 से ही पढ़ना शुरू करते थे,अर्थात उस समय एल.के.जी और यू.के.जी. जैसी व्यवस्था नहीं थी। अगर कहीं पर एल.के.जी. और यू.के.जी. जैसी व्यवस्था थी तो बड़े-बड़े लोगों के लिए थी जिनके बच्चे बड़े-बड़े स्कूलों में पढ़ते थे।

लेकिन अब सरकारी स्कूलों में भी देखा जाए तो वहां पर भी क्लास 1 से पहले ही नर्सरी के बच्चो की पढ़ाई शुरू कर दी गई हैं। यह प्रावधान हमारी नई शिक्षा नीति में भी लागू कर दी गई है। अब इस योजना का लाभ उन स्कूल के बच्चो को भी मिलेगा जिन स्कूलों में प्री प्राइमरी , बाल वाटिका या आंगनबाड़ी में पढ़ते हैं। इस योजना का लाभ 24 लाख बच्चों को मिलेगा जो क्लास 1 से पहले की पढ़ाई करते हैं या स्कूल में आना जाना सीखते हैं।

प्रधानमंत्री पोषण योजना की विशेषता क्या है?

इस योजना का पूरा नाम पोषण शक्ति निर्माण है। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 1.3 लाख करोड़ खर्च की जाएगी। जिसकी समय सीमा 2021-22 से लेकर 2025 -26 तक रखी गई है। अर्थात पूरे 5 वर्षों के लिए या योजना लाई गई है।

इस योजना में 54 हजार करोड रुपए केंद्र सरकार देगी एवं 45 हजार करोड़ों रुपए फूड ग्रेन पर खर्च करेगी। बाकी के बचे 31 हजार करोड़ राज्य सरकारे उठाएंगी।

तिथि भोजन योजना क्या है?

हमारे भारत में बहुत से ऐसे लोग हैं जो अपने जन्मदिन की पार्टी में काफी खर्चे कर देते हैं। जिस पार्टी में व जरूरतमंद को खाना खिला देते हैं। अपने जन्मदिन पर बहुत सारे लोग वृद्ध आश्रम जाकर वृद्धों को खाना खिलाते हैं कपड़े देते हैं।

ठीक उसी प्रकार सरकार का यह प्रयास है कि जो लोग शहरों या गांव के अंदर रहते हैं जो लोग थोड़ा पैसा खर्च कर सकते हैं उनसे यह कहा जाएगा कि 1 दिन का भोजन वह दान कर दे अर्थात उपलब्ध करा दे। जो लोग ऐसा कर सकते हैं वह लोग स्कूल जाकर यह कह सकते हैं कि आज का भोजन हम उपलब्ध कराएंगे।

कुल मिलाकर देखा जाए तो सरकार यह प्रमोट करना चाहती है कि जो लोग अपनी जन्मदिन की पार्टी पर या कुछ अलग करते समय खर्च कर देते हैं वह लोग स्कूल में जाएं और वहां पर 1 दिन का भोजन उपलब्ध करा दें। स्कूलों में बच्चों के लिए इस तरह से भोजन की व्यवस्था कराना ही तिथि भोजन योजना है।

स्कूल न्यूट्रीशन गार्डन क्या है?

सरकार स्कूलो में न्यूट्रीशन गार्डन को प्रमोट कर रही हैं। सरकार द्वारा यह प्रयास किया जा रहा है कि सरकारी स्कूलों की अंदर ही फल और सब्जियों की उत्पादन की जाए जिससे कि बच्चों को ताजा और पोषायुक्त फल और सब्जियां मिल सके। एनीमिया को रोकने के लिए स्कूलों में एक्स्ट्रा न्यूट्रीशन दिया जा रहा है। 3 लाख स्कूलों में ऐसा किया भी जा चुका है।

स्कूलों के अंदर कुकिंग कंपटीशन की भी व्यवस्था की जाएगी कि वहां पर किस प्रकार की भोजन बनाई जा रही हैं। जिसको सोशल ऑडिट के माध्यम से कोई भी व्यक्ति वहां पर बनाई जा रही भोजन को चख कर यह बता सकता है कि खाना सही बना है या नहीं।

किसानों के समूह (कृषक उत्पादक कंपनी) को क्या कहा जाएगा कि आप आत्मनिर्भर भारत को प्रमोट करिए। अगर आपको लगता है कि आप पूरे साल का भोजन उपलब्ध करा सकते हैं तो आप पूरे 1 साल का भी भोजन उपलब्ध करा सकते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने जाना की प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme क्या है ? हम उम्मीद करते हैं की आपको सभी को आज का हमारा यह लेख प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme पसंद आया होगा ।

यदि आपको हमारा यह लेख प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme अछा लगा हो तो कृपया इस लेख प्रधानमंत्री पोषण योजना क्या है What is Prime Minister Nutrition Scheme को अपने सभी साथियों के साथ जरुर शेयर करें , ताकि वह लोग भी इसके बारे में जान सकें और समझ सकें ।

इसे भी पढ़ें

आपका बहुत-बहुत धन्यबाद !

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top